Home / RELIGION / Ramayana,हनुमान जी ने क्यों खुद की लिखी रामायण को समुद्र में विसर्जन किया

Ramayana,हनुमान जी ने क्यों खुद की लिखी रामायण को समुद्र में विसर्जन किया

Ramayana,हनुमान जी ने क्यों खुद की लिखी रामायण को समुद्र में विसर्जन किया

hanumat ramayana
hanumat ramayana

Ramayan:- रामायण भारत की सबसे प्रसिद्ध कथा है . इसमें प्रभु श्री राम के जीवन के बारे में जानने को मिलता है. ramayana रामायण कई महान विद्वानों द्वारा लिखी गयी है.जिसमे वाल्मीकि जी की रामायण ( valmiki ramayana ) को सबसे पहली रामायण माना है. लेकिन श्री राम भग्त हनुमान ,जिनके लिए राम जी श्रेष्ठ है, उन्होंने भी रामचन्द्र जी की गाथा लिखी थी.शास्त्रों के अनुसार जब राम जी लंका पर विजय हासिल कर ,अपनी मात्र भूमि अयोध्या का राज संभाला, तभी हनुमान जी तपस्या के लिए हिमालय चले गये. तपस्या के दौरान हनुमान जी ने एक पर्वत की चट्टान पर अपने नाख़ून से रामायण लिखी थी. और वही दूसरी ओर वाल्मीकि जी अपने लिखी रामायण को शंकर जी को सोपने का सोचा. जब वह कैलाश पर्वत पहुचे तो उन्होंने देखा. वहा हनुमान जी अपनी लिखी Ramayana के साथ मोजूद थे ,वाल्मीकि जी निराश से हो गये . लेकिन उनको दुखी देख संकट मोचन हनुमान जी ने, उनके निराश होने का कारण पूछा.तब उन्होंने अपनी Ramayana की तुलना करते हुए बताया की ,आपकी लिखी रामायण के सामने ,मेरी लिखी रामायण कुछ भी नही है.हनुमान जी को उनकी निराशा देखि नही गयी .

इसलिए हनुमान जी ने उनकी निराशा को दूर करने के लिए ,अपनी लिखी रामायण ramayana को कंधे में रखा और साथ ही साथ वाल्मीकि जी को दुसरे कंधे में बैठा कर समुन्द्र की और चले गये .वहा हनुमान जी ने अपनी लिखी रामायण को समुद्र में विसर्जन किया. यह देख वाल्मीकि जी ने कहा आप बहुत दयालु है .आपके गुणगान करने के लिए मुझे एक जन्म और लेना होगा. और उस जनम में भी एक रामायण और लिखूंगा जिससे पुरे दुनिया के लोग रामायण को पड़ सकेंगे .कहा जाता है की तुलसीदास ही वाल्मीकि जी के दुसरे रूप है इसलिए तुलसी दास जी की लिखी गाथा में हनुमान चालीसा लिखने के बाद ही उन्होंने अपनी नई रामायण लिखने की शुरुवात की . बहुत सालो बाद जब कालिदास जी समुद्र के किनारे गये तो उन्हें एक पर्वत शिला का टुकड़ा मिला जिसमे प्राचीन भाषा में लिखा हुआ था. जब उन्होंने ने उस प्राचीन भाषा का अनुवाद किया तो उन्हें रामायण का उल्लेख मिला.जो हनुमान जी द्वारा रचित थी.

ramayan के बारे में अधभुत बाते .

कहा जाता है की रामायण की गाथा राम जी के जन्म के पूर्व ही वाल्मीकि जी ने लिख दि थी. जिसका नाम valmiki ramayan पड़ा. लेकिन उन्होंने रामायण काल घटित होने के बाद शंकर जी को भेट के रूप में सोपा. मुख्यतः रामायण कई बड़े बड़े विद्वानों ने लिखी है जिनके नाम कबंद रामायण, अधभुत रामायण, आनंद रामायण , श्री रामचरित्रमानस, वाल्मीकि रामायण और हनुमत रामायण.

hanumat ramayana chattan me likhi gyi thi
hanumat ramayana chattan me likhi gyi thi
ramcharitmanas
ramcharitmanas
अधभुत रामायण
अधभुत रामायण
आनंद रामायण
आनंद रामायण
कबंद रामायण
कबंद रामायण

यह कहानी ramayana video के रूप में भी आप देख सकते हो . और साथ ही साथ animated ramayana movie भी देख सकते है.

 

Check Also

तिलक लगाने के कारण

तिलक क्यों लगते है और इसका वैज्ञानिक कारण

तिलक क्यों लगते है और इसका वैज्ञानिक कारण तिलक लगाना हिन्दू धर्म का एक आवश्यक …